URL का फुल फॉर्म क्या है? – URL full form in Hindi & English

URL का फुल फॉर्म क्या है? – URL full form in Hindi & English:- URL की फुल फॉर्म Uniform Resource locator होता है और इसका अविष्कार टीम बेर्नेर्स ने किया था। टीम बेर्नेर्स ने सन 1994 में इसका अविष्कार किया था। URL के अलावा टीम बेर्नेर्स ने Http और Html का भी अविष्कार किया था।

URL का फुल फॉर्म क्या है? – URL full form in Hindi & English

URL का फुल फॉर्म क्या है? – URL full form in Hindi & English

URL क्या होता है (what is Uniform Resource locator in Hindi)

URL की मदद से इंटरनेट पर किसी वेबसाइट या फाइल को आसानी से ढूंढा जा सकता है। यह तीन भागों से Protocol Designation, Host Name or Address और File or Resource Location मिलकर बना होता है।

Protocol Designation – यह URL का शुरूआती हिस्सा होता है। इसके बाद :// का इस्तेमाल किया जाता है। URL Protocol को HTTP (http://) और FTP (ftp://) से भी दर्शाया जाता है।

Host Name – यह URL के बीच का हिस्सा होता है इसकी मदद से network device का आसानी से पता लगाया जा सकता है।

File or Resource Location – यह URL का आखिरी हिस्सा होता है जो special network के रास्ते को दिखाता है जो होस्ट में होती है। आपको बता दें कि Resource Location को host directory फोल्डर में रखा जाता है।

URL कितने प्रकार के होते है (How many types of Uniform Resource locator are there?)

यह सिर्फ तीन प्रकार के होते है।

  • Static Url – इस प्रकार के URL बदलते नहीं है क्योंकि इन URL को Webpage’s Html द्वारा बनाया जाता है।
  • Dynamic Url – इस टाइप के URL data query के अंत में इस्तेमाल किये जाते है और इस टाइप के URL में +,=,%,$,&,? नाम के शब्द भी आते है।
  • Massy Url – इनको कंप्यूटर द्वारा बनाया जाता है और इन टाइप के URL में नंबर और लेटर भी होते है।

Url किस प्रकार काम करता हैं (How do Uniform Resource locator work?)

IP Addresses को याद रखना मुश्किल होता है इसलिए URL का इस्तेमाल किया जाता है। जब हम किसी भी तरह के URL को गूगल क्रोम या ब्राउज़र पर सर्च करते है तो ब्राउज़र DNS सर्वर की मदद से उस URL को IP Address में बदल देता है। इस प्रकार यह काम करता है।

URL का इस्तेमाल इसलिए किया जाता है क्योंकि इसकी मदद से कम्प्यूटर्स को वेबसाइट ढूंढने में आसानी होती है। कई वेबसाइट का IP Address समय-समय पर बदल जाता है लेकिन किसी भी साइट का URL नहीं बदलता है इसलिए URL का इस्तेमाल किया जाता है।

URL में characters का इस्तेमाल क्यों नहीं किया जाता है ?

यदि अपने URL को ध्यान से देखा हो तो आपने एक बात जरूर नोटिस की होगी कि URL में स्पेस नहीं होता है। RFC 1738 के अनुसार URL में सिर्फ Alphanumeric characters और अन्य तरह के characters !,$,-,_,*,’,() का ही इस्तेमाल किया जाता है। यदि URL में किसी अन्य characters का इस्तेमाल किया जाए तो उन्हें पहले encode किया जाता है।

Secure URL किसे कहा जाता हैं? (What is a secure URL?)

जिन वेबसाइट के शुरुआत में https:// का इस्तेमाल किया जाता है उनको Secure URLs कहा जाता है। Secure URLs की मदद से साइट को हैक कर पाना मुश्किल होता है। यदि आप किसी वेबसाइट पर अपनी पर्सनल डिटेल्स शेयर कर रहे हो तो आपको सबसे पहले उस वेबसाइट के URL के आगे https:// को जरूर चेक करना चाहिए।

यदि आप बिना चेक किये किसी वेबसाइट पर पर्सनल डिटेल्स शेयर करते हो तो आपके साथ धोखा भी हो सकता है। इसलिए हैकर और धोखे बाजों से बचने के लिए Secure URL का इस्तेमाल किया जाता है। Secure URL को SSL नाम से भी जाना जाता है।

URL से जुड़े कुछ ख़ास सवाल (Frequently asked questions related to URL)

  1. URL कैसा दिखता है?

गूगल का URL www.google.com होता है। यह इस तरह का दिखता है।

  1. क्या URL का इस्तेमाल करना जरूरी होता है

जी हाँ, बिना URL के आप किसी भी साइट पर नहीं जा सकते हो।

  1. ब्राउज़र में URL कहाँ दिखाई देता है

गूगल क्रोम व अन्य ब्राउज़र में URL ऊपर की ओर होता है।

  1. URL को किस वर्ष में खोजा गया था।

सन 1994 में इसकी खोज की गई थी।

  1. URL को हिंदी में क्या कहा जाता है?

यूनिफार्म रिसोर्स लोकेटर कहा जाता है।

हमारी पोस्ट के जरिये पता चल चुका होगा कि URL क्या होता है और URL की फुल फॉर्म क्या होती है। इस पोस्ट में हमने आपको URL (Uniform Resource locator) से जुड़ी पूरी जानकारी दी है।

 

If you like information about URL का फुल फॉर्म क्या है? – URL full form in Hindi & English then share with your friends.

Leave a Comment