Math का फुल फॉर्म क्या है? – Math full form in Hindi & English

Math का फुल फॉर्म क्या है? – Math full form in Hindi & English:- Math का फुल फॉर्म “Mathematics“ है। Math का हिंदी में फुल फॉर्म गणित है। “Mathematics“ एक ऐसा विज्ञान है जो संख्या सिद्धांत, बीजगणित, ज्यामिति और गणितीय विश्लेषण जैसे विषयों पर आधारिक है। गणित में नए अनुमानों को तैयार करना और उनका इस्तेमाल करना शामिल है। आज गणित हमारे चारों ओर मौजूद है फिर चाहे हमारे द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला मोबाइल फ़ोन हो या हमारे घर, पैसा, इंजिनियरिंग, कंप्यूटर, वाहन और स्पोर्ट्स हर चीज़ का आधार गणित ही है।

Math का फुल फॉर्म क्या है? – Math full form in Hindi & English

Math का फुल फॉर्म क्या है? – Math full form in Hindi & English

सबसे कठिन विषय है गणित

जब बच्चे अपनी पढ़ाई की शुरुआत करते है तो उन्हें कई सब्जेक्ट्स पढना होता है। उन विषयो सीखने के लिए उन्हें काफी मेहनत करनी पड़ती है और कई बच्चे ऐसे होते है जिनको सबसे ज्यादा कठिन विषय “Mathematics“ लगता है, जिनको  मैथ कठिन लगता है उन्हें इसमें ज्यादा मेहनत करने के जरूरत होती है। mathematics को समझने के लिए कड़े अभ्यास की आवश्यकता होती है तभी इसे अच्छी तरह से सीखा जा सकता है।

हमारे दैनिक कामों को होता है गणित का इस्तेमाल

आज गणित के बिना हमारे जिन्दगी अधूरी है क्योंकि हम जो भी काम करते हैं उसमे गणित का अहम् रोल होता है। जैसे पैसे गिनना, बजट बनाना, किसी भी चीज़ को मापने में, घडी में समय देखने में आदि। यानी की गणित का उपयोग हमारे रोज के कामों में होता रहता है। math के फुल फॉर्म के बारे में तो हम बता ही चुकें हैं तो आइये अब जरा math के इतिहास के बारे में भी जान लेते हैं।

Also Read:- PC का फूल फॉर्म क्या है- PC Full form in Hindi & English

Also Read:- VIP का फुल फॉर्म क्या होता है- VIP & VVIP Full form in Hindi

गणित का इतिहास- History of maths in Hindi

  • गणित का इतिहास काफी पुराना है। बता दे बेबीलोन तथा मिस्र सभ्यताए 4000 वर्ष पहले गणित का इस्तेमाल पंचांग (कैलेंडर) बनाने के लिए करती थी। जिससे उन्हें भविष्य में होने वाली घटनाओं के बारे में पूरी जानकारी रहती थी जैसे नील नदी में बाढ़ कब आयगी, फसल की बुआई कब करना है।
  • वे लोग गणित का उपयोग वर्ग समीकरणो को हल करने के लिए भी किया करते थे।
  • उस समय ज्यमिति का इस्तेमाल पिरामिड जैसे स्मारको के निर्माण और खेतों की सीमाओं का निर्धारण करने के लिए किया जाता था।
  • आपको बता डेम कि मिलेटस निवासी thales को ही सबसे पहला सैद्धांतिक गणितज्ञ बताया जाता है क्योंकि उन्ही ने ये बताया था कि किस भी वस्तु की उंचाई की माप छड़ी द्वारा निक्षेपित परछाई से तुलना करके मापी जा सकती है। ऐसा माना जाता है उन्होंने एक बार सूर्यग्रहण के बारे में भी भविष्यवाणी की थी।
  • Thales के शिष्य पाइथागोरस ने ज्यामिती को यूनानियो के बीच एक साइंस का दिलाया, इसके बाद Euclid और Archiimidhiz के द्वारा गणित को आगे बढाया गया।
  • बेबीलोन के लोगों को विरासत में जो ज्ञान मिला उससेयूनानियो ने काफी वृद्धि की।
  • उनके द्वारा गणित को एक तर्कसंगत पद्धति (rational method) के रूप में स्थापित किया जो कि एक ऐसी पद्धति जिससे कुछ फैक्ट्स या धारणाओ के अनुसार निष्कर्ष निकला जा सकता है जिसे आज हम प्रमेय ( theorem) कहते हैं।
  • 12 वीं सदी तक गणित के विकास की यात्रा में किये गए सभी प्रयास भारत के गणितज्ञों की ही खोजो पर आधारित थे।

शून्य का आविष्कार (the invention of zero)

पूरा विश्व आज यह मानता है कि शून्य का आविष्कार भारत में ही हुआ था। आपको बता दें कि भारत के ज्योतिषविद् और गणितज्ञ आर्यभट्रट ने ही शुन्य की खोज की थी। आज हम जिस जीरो के बिना गणित की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं लेकिन गणित मे समुंदर की तरह गहराई लगाने वाले आर्यभट्रट ने जीरो की खोज करके अपना नाम इतिहास के पन्नों में अमर कर दिया।

If you like information about Math का फुल फॉर्म क्या है? – Math full form in Hindi & English then share with your friends.

Leave a Comment