GDP का फुल फॉर्म क्या है? – GDP full form in Hindi & English

GDP का फुल फॉर्म क्या है? – GDP full form in Hindi & English:- GDP की फुल फॉर्म Gross Domestic Product होता है और इसे हिंदी में “सकल घरेलू उत्पाद” कहा जाता है। आपको बता दें कि GDP देश की वस्तुओं, उत्पादों और सेवाओं के मूल्य पर निर्भर करती है। GDP का इस्तेमाल देश की अर्थव्यवस्था को में होने वाली गिरावट को मापने के लिए किया जाता है। जिन देशों की GDP काफी ज्यादा होती है। उनका विकास भी अन्य देशों की तुलना में ज्यादा होता है।

सन 1934 में अमेरिका में सबसे पहले GDP की गणना की गई थी। अमेरिका के संसद में 1929 से 1934 तक का इकोनॉमिस्ट साइम पेश किया गया था। आपको बता दें कि जब इसकी गणना की गई थी तो इसमें देश के हर प्रोडक्शन और सर्विसेस के उत्पाद को भी शामिल किया गया था। अगर भारत की बात करें तो भारत में पहली बार GDP को 1950 में मापा गया था।

GDP का फुल फॉर्म क्या है? – GDP full form in Hindi & English

GDP का फुल फॉर्म क्या है? – GDP full form in Hindi & English

GDP की गणना कैसे की जाती है (How Gross Domestic Product is Calculated in Hindi)

आप लोगों ने भारत की GDP के बारे जरूर सुना होगा और आपके मन में यह सवाल भी जरूर आया होगा कि इसकी गणना कैसे की जाती है तो आइये जानते है इसके बारे में…

नीचे दिए फॉर्मूले की मदद से GDP को मापा जाता है

Gross Domestic Product = निजी खपत + कुल निवेश + सरकारी व्यय + (निर्यात? आयात)

आपको बात दें की देश की GDP उद्योग, कृषि और सर्विस से ज्यादा इंपोर्ट या एक्सपोर्ट पर निर्भर करता है। उदाहण के लिए – हम यदि चीन से बना हुआ प्रोडक्ट भारत में खरीते है तो इस खरीदने वाले सामान की कीमत चीन की GDP में गिनी जायेगी और भारत की GDP में नहीं गिनी जायेगी।

GDP के क्या-क्या फायदे है (What are the benefits of Gross Domestic Product in Hindi)

  • GDP की मदद से देश के लोगों को अधिकतर वस्तुओं और सेवाओं का आनंद दिया जा सकता है और जिंदगी को अधिक से अधिक सरल बनाया जा सकता है।
  • इसके आलावा यह देश के आर्थिक विकास में भी मुख्य भूमिका निभाती है और इससे देश के लोगो को रोजगार भी मिलता है।
  • अधिक उत्पादन के कारण देश की कंपनियां भी अधिक रोजगार पैदा करती है और देश के लोगों को रोजगार भी मिलता है।
  • टैक्स बढ़ने से सरकार हाइवे और एजुकेशन पर भी अधिक पैसा खर्च करती है और देश के विकास में भी काफी योगदान मिलता है।

GDP कितने प्रकार के होती है (Types of Gross Domestic Product in Hindi)

यह कई प्रकार की होती है तो आइये जानते है इसके बारे में…

Nominal GDP  current market value का उपयोग करके Nominal GDP की आसानी से गणना की जा सकती है।
Real GDP  Real GDP देश की inflation या deflation को adjust करता है और देश में तैयार होने वाली वस्तुओं और आर्थिक मूल्यों को दर्शाता है। Real GDP की मदद से देश की आर्थिक अवस्था की स्थिति मापी जाती है।
Actual GDP  इस GDP की मदद से देश की वर्तमान अवस्था को भी आसानी से मापा जा सकता है।
Potential GDP  किसी देश की स्थिर मुद्रा, full employment और minimal inflation जैसी स्थितियों को देश की Potential GDP कहा जाता है।

भारत की GDP कितनी है (What is the Gross Domestic Product of India in Hindi)

भारत विकाशसील देशों की लिस्ट में शामिल है और डिजिटल पेमेंट और नई कंपनियों ने देश की GDP को बढ़ाने में काफी ज्यादा योगदान दिया है।

हर तीन महीने में एक बार देश की GDP की गणना की जाती है और इस चीज को भी नोटिस किया जाता है कि पिछले तिमाही देश की GDP कितनी थी।

भारत काफी देशों से आगे रहा है और इसी कारण भारत की GDP भी काफी अच्छीहै। इस समय भारत की GDP 2.62 lakh crores के आस-पास है।

GDP कैलकुलेशन करते समय आर्थिक चीजों पर अधिक ध्यान दिया जाता है।

आपको बता दें कि देश की GDP की जिम्मेदारी मिनिस्ट्री ऑफ स्टैटिक एंड प्रोग्राम इंप्लीमेंटेशन की होती है।

GDP की गणना करते समय किन चीजों को नहीं गिना जाता है ?

देश में मौजूद कालेधन और विदेश के कालेधन को GDP में शामिल नहीं किया जाता है।

यदि कोई भारतीय कंपनी अपना बिजनेस किसी दूसरे देश में जमाती है तो विदेशी कंपनी की आमदनी को भी GDP में शामिल नहीं किया जाता है।

भारत देश में रहने वाले लोगो के रहने की सामाजिक स्थिति और रहन-सहन को भी शामिल नहीं किया जाता है।

 

If you like information about GDP का फुल फॉर्म क्या है? – GDP full form in Hindi & English then share with your friends.

Leave a Comment