CBSE का फुल फॉर्म क्या है CBSE full form in Hindi & English

CBSE का फुल फॉर्म क्या है CBSE full form in Hindi & English:-CBSE का फुल फॉर्म Central Board of Secondary Education होता है, जिसको हिंदी में केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड कहा जाता है। सीबीएसई (CBSE) सार्वजनिक और निजी स्कूलों के लिए एक राष्ट्रीय स्तर की शैक्षिक प्रणाली है जोकि भारतीय केंद्र सरकार के द्वारा संचलित और विनियमित की जाती है। Central Board of Secondary Education (CBSE) हर साल राष्ट्रीय स्तर पर कक्षा 10वीं और कक्षा 12वीं के छात्र-छात्राओं के लिए अपनी बोर्ड परीक्षा का आयोजित कराती है। सीबीएसई (CBSE) ने मांग कि है कि देश के सभी स्कूलों में एनसीईआरटी (NCERT) के सिलेबस का इस्तेमाल किया जाना चाहिए। भारत में लगभग 20,299 और 28 अंतरराष्ट्रीय देशों में लगभग 220 सीबीएसई (CBSE) स्कूल हैं।

CBSE का फुल फॉर्म क्या है CBSE full form in Hindi & English

CBSE का फुल फॉर्म क्या है CBSE full form in Hindi & English

सीबीएसई का इतिहास – (CBSE of History in Hindi)

  • 1921 में, भारत में स्थापित होने वाला पहला शैक्षिक बोर्ड उत्तर प्रदेश हाई स्कूल और मध्यवर्ती (Intermediate) शिक्षा बोर्ड था, इसके अधिकार क्षेत्र में राजपूताना, मध्य भारत और ग्वालियर था।
  • 1929 में भारत सरकार ने राजपूताना, हाई स्कूल और इंटरमीडिएट शिक्षा बोर्ड नामक एक संयुक्त बोर्ड की स्थापना की गई। इसमें अजमेर, मेरवाड़, मध्य भारत और ग्वालियर शामिल थे।
  • 1952 में, बोर्ड के संविधान में संशोधन किया गया, जिसमें इसके अधिकार क्षेत्र को part-c और part-d क्षेत्रों तक बढ़ा दिया गया और बोर्ड को इसका वर्तमान नाम ‘केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड’ नाम दिया गया।

सीबीएसई के उद्देश्य – (Objectives of CBSE in Hindi)

  • Central Board of Secondary Education (CBSE) के मुख्य उद्देश्य कुछ इस प्रकार से हैं:-
  • सीबीएसई (CBSE) अपने उन सभी छात्र-छात्रों को शैक्षिक सुविधाएं प्रदान कराता है जिनके माता-पिता एक स्थान से दूसरे स्थान पर स्थानांतरित होते रहते हैं।
  • CBSE हमेशा देश के हर हिस्से में संबद्ध संस्थानों के माध्यम से देश के शैक्षणिक मानकों को उन्नत कर रहा है।
  • माध्यमिक शिक्षा बोर्ड परीक्षाओं की शर्तें निर्धारित करता है और छात्र-छात्रों को योग्यता प्रमाण पत्र (Qualification Certificate) प्रदान करता है।
  • सीबीएसई छात्र-केंद्रित अवधारणाएं प्रदान करता है।

सीबीएसई के क्षेत्रीय कार्यालय – Regional Offices of CBSE

भारत में सीबीएसई (CBSE) के कुल 16 क्षेत्रीय कार्यालय हैं और वहअजमेर (Ajmer), इलाहाबाद (प्रयागराज) (Allahabad (Prayagraj), भुवनेश्वर(Bhubaneswar), चेन्नई ( Chennai), देहरादून (Dehradun), पूर्वी-दिल्ली (East-Delhi), गुवाहाटी (Guwahati), पंचकुला (Panchkula), पटना (Patna), तिरुवनंतपुरम (Thiruvananthapuram), बेंगलुरु (Bengaluru), भोपाल (Bhopal), चंडीगढ़ (Chandigarh), पश्चिमी-दिल्ली (West-Delhi), नोएडा (Noida) और पुणे (Pune) में स्थापित हैं।

Also Read:- PDF का फुल फॉर्म क्या है- PDF Full Form in Hindi & English

Also Read:- CRPF फुल फॉर्म क्या है-CRPF Full form in Hindi & English

सीबीएसई का महत्व – Importance of CBSE

  • सीबीएसई (CBSE) केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से प्रमाण पत्र प्रदान करता है और यह पूरे देश में, सभी कॉलेजों और शैक्षणिक केंद्रों में मान्यता प्राप्त है।
  • सीबीएसई (CBSE) की शिक्षा संरचना एक ही समय में ध्यान से अध्ययन करने और कौशल विकसित करने की अनुमति देती है।
  • सीबीएसई (CBSE) सिलेबस इसकी संरचना के कारण अन्य बोर्डों की तुलना में आसान है।
  • सीबीएसई (CBSE) शिक्षा के मामले में छात्र-छात्राओं को आगे बढ़ने के लिए आवश्यक बुनियादी जरूरतें और सामान्य ज्ञान प्रदान करता है।

सीबीएसई और राज्य बोर्ड में किसका अंतर्राष्ट्रीय स्कोप अधिक है (CBSE vs State Boards International Scope in Hindi)

अधिकांश बच्चे विदेशों में उच्च अध्ययन करना चाहते हैं और दोनों बोर्ड के छात्र विदेशों में अध्ययन के लिए आवेदन करने के पात्र हैं। लेकिन विदेशों में सीबीएसई (C.B.S.E) बोर्ड के छात्रों को अधिक लाभ प्राप्त होता है क्योंकि सीबीएसई बोर्ड के छात्र नर्सरी स्तर से अंग्रेजी भाषा में विषयों का अध्ययन कर रहे होते हैं और अन्य भाषाओं भी को कुछ समय बाद इनकी शिक्षा प्रणाली में जोड़ दिया जाता है जो कि राज्य बोर्ड की तुलना में काफी जल्दी है। हालांकि भविष्य में बच्चों का दायरा उनकी क्षमताओं पर निर्भर करता है, सीबीएसई (CBSE) बोर्ड छात्रों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी अच्छा प्रदर्शन करने के लिए तैयार करता है।

सी.बी.एस.ई के लाभ – Advantages of CBSE in Hindi

  • अन्य भारतीय बोर्डों की तुलना में, सीबीएसई (CBSE) का सिलेबस अधिक सीधा व सरल है।
  • सी.बी.एस.ई (CBSE) स्कूलों की संख्या किसी भी बोर्ड की तुलना में काफी अधिक है, जिससे स्कूलों को बदलना बहुत आसान हो जाता है, खासकर जब छात्र को दूसरे राज्य में जाना पड़ता है।
  • भारत में स्नातक स्तर (Graduation Level) की कई प्रतियोगी परीक्षाएं सीबीएसई (CBSE) सिलेबस पर आधारित होती हैं।
  • आमतौर पर, सीबीएसई (CBSE) के छात्रों को अन्य राज्य बोर्ड के छात्रों की तुलना में अंग्रेजी में अधिक कुशल माना जाता है।

If you like information about CBSE का फुल फॉर्म क्या है – CBSE full form in English & Hindi then share with your friends.

Leave a Comment